गहलोत सरकार ने शिक्षा को लेकर लिया यह फैसला…

CM Gehlot takes stock of preparations before lockdown, strictness regarding guideline
Spread the love

जयपुर। प्रदेश के साथ ही देशभर में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है, जिसका प्रभाव आम से लेकर खास सभी लोगों पर पड़ रहा है, लेकिन स्कूल कॉलेज और विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं की पढ़ाई सबसे अधिक प्रभावित हो रही है। साथ ही सभी शैक्षणिक संस्थान में इस समय बंद पड़े हैं। वहीं, अब राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी कॉलेज और विश्वविद्यालय में 2 माह का ग्रीष्मकालीन अवकाश की घोषणा कर दी है, जिसके अनुसार इस सत्र का ग्रीष्मकालीन अवकाश 1 मई से शुरू होकर 30 जून तक रहेगा। इसके साथ ही राज्य सरकार ने आदेश जारी किए हैं कि ग्रीष्म कालीन अवकाश के दौरान कोई भी कार्मिक मुख्यालय नहीं छोड़ेगा। कोरोना से उत्पन्न विकट परिस्थितियों के कारण सभी प्राचार्य शिक्षक गण एवं कार्मिक इस अवकाश के दौरान अपना मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। किसी भी विषम परिस्थिति से निपटने के लिए उनकी सेवाएं सरकार और कॉलेज शिक्षा निदेशालय द्वारा ली जा सकती हैं। यदि किसी विषम परिस्थिति में मुख्यालय छोडऩा आवश्यक हो तो मोबाइल हमेशा चालू रखेंगे। इस महामारी के दौरान किसी भी कार्मिक की सेवाएं सरकार के द्वारा कभी भी ली जा सकती है। इसके साथ ही सरकार ने निर्देश दिए हैं कि ग्रीष्मावकाश के दौरान यदि विश्वविद्यालय की परीक्षाएं होती हैं तो सभी शैक्षणिक व अशैक्षणिक कार्मिकों को अनिवार्य रूप से उपस्थित होना होगा। वहीं, सरकार के निर्देश पर ही अपने कार्यालय खोले जाएंगे।

Load More Related Articles
Load More By alertbharat
Load More In राजस्थान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *